Cyber Security Tips

Phishing Email Fraud Hindi : फिशिंग ईमेल से आपको हो सकता है बड़ा नुकसान

जैसे जैसे दुनिया डिजिटल होती जा रही है उसी प्रकार से फ्रॉड के तारीक भी बदलते जा रहे है, पुराने जमाने मे ठग लोगों के घरों मे घुसकर समान चोरी किया करते थे, लेकिन अब लोगों के ज्यादातर बिजनस ऑनलाइन होने जा रहे है, जिसके कारण ठगी करने भी लोगों के साथ फ्रॉड करने के लिए ऑनलाइन तरीके अपना रहे है.

ऑनलाइन ठगी करने के वाले ठग लोगों से गलत तरीके से उनकी बैंक संबंधी जानकारी प्राप्त करके उनके बैंक खातों को खाली कर रहे है, आज हम आपको इस लेख मे ऑनलाइन फ्रॉड के इसी तरीके के बारे मे बताने वाले है कि ईमेल फ्रॉड क्या है email fraud kya hai फिशिंग ईमेल फ्रॉड क्या है Phishing Email Fraud Hindi ईमेल फ्रॉड से कैसे बचे email fraud se kaise bache  या फिर इसे यू भी कह सकते है कि ऑनलाइन फ्रॉड से कैसे बचे online fraud se kaise bache

जब से देश मे कोरोना महामारी का दौर चल रहा है तब से देश मे ऑनलाइन फ्रॉड या बेंक से जुड़े फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे है.आईटी कंपनियों  मे कार्य करने वाले ज्यादातर लोग अपने घरों से ही काम कर रहे है उनका ज्यादातर कार्य इंटरनेट या पीसी पर ही गुजरता है. जिसका फायदा फ्रॉड करने वाले उठा रहे है.

आजकल लोग अपने खातों से जुड़े कार्य ऑनलाइन करते है जिसके कारण उन्हे बैंकों मे कम चक्कर लगाने पड़ते है। इसी का फायदा ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले लोग उठा रहे है इसका सबसे बड़ा कारण ऑनलाइन फ्रॉड Online Fraud के बारे मेजानकारी न होना।

Phishing Email Fraud Hindi

फिशिंग Phishing की समस्या एक दुनिया की एक बड़ी समस्या है जिसका सामना दुनिया के लग कर रहे है. फिशिंग एक ईमेल होता है .जो फ्रॉड करने वाले लोग किसी मशहूर बेंक या फिर बड़ी कंपनियों  के नामे से लोगों के पास भेजते है जो देखने मे एकदम सही नजर आता है.

आपने देखा होगा कि कई बार लोगों के पास किसी अनजान नंबर से काल आता है कि आपका बेंक खाता, डेबिट कार्ड या फिर क्रेडिट बंद होने वाला है. आपको इसे रोकने के लिए अपने बेंक खाते की केवाईसी करनी होगी. जिसमे आपसे दस्तावेज संबंधी कुछ जरूरी जानकारी ली जाती है और अंत ने आपके नंबर पर आने वाला ओटीपी पूछा जाता है.

इसे भी जरूर पढे : मोबाइल ओटीपी फ्रॉड क्या है।

यूजर उस ओटीपी को उन्हे बताकर अपने पेरो पर खुद ही कुल्हाड़ी मार लेते है और उनका शिकार हो जाते है, लेकिन अब इस तरीके के बारे मे ज्यादातर लोगों को मालूम हो गया है.

इसलिए अब हेकर्स डायरेक्ट काल न करके बैंक, वित्तीय संस्था या किसी बड़ी कंपनी के नामे से फर्जी वेबसाइट या फेक ईमेल के जरिए आपकी जानकारी पता करके खाते को खाली करते है.

फिशिंग फ्रॉड करने का तरीका

ऑनलाइन फ्रॉड Online Fraud करने वाले स्कैमर किसी वित्तीय संस्था या फिर किसी बड़ी कंपनीके नाम से फर्जी सोशल मीडिया पेज बनाकर वे लोगों को अपने जाल मे फसाते है.स्कैमर यूजर्स से बैंक, बीमा स्कीम, इंसयोरेंस स्कीम , या किसी बड़ी कंपनी के नाम से जॉब संबंधी ईमेल भेजते है. और यूजर्स से उनकी दस्तावेज संबंधी जनकारी इखट्टा करके उन्हे अपने जाल मे फसाते है.

इसे भी जरूर पढे : फेक न्यूज को कैसे पहचाने ।

Online Fraud करने वाले किसी बड़ी ई कॉमर्स कंपनी के नाम से मिलती जुलती फेक वेबसाइट बनाकर लोगों से प्रोडक्ट के ऑर्डर लेते है . स्कैमर लोगों के पास लाखों करोड़ों रुपये के लाटरी जीतने के बारे मे काल करते है और उन्हे अपने जाल मे फसाते रहते है. इस प्रकार की घटनाए आए दिन होती रहती है.

साइबर क्राइम करने वाले फ्रॉड प्रसन लोगों के पास उनके बेंक वालेट से संबंधित केवाईसी के बारे मे काल करके उनसे बैंक से जुड़ी डीटेल प्राप्त कर लेते है. कई बार यूजर जब इंटरनेट का इस्तेमाल करता रहता है तो उसेसामने बार बार अलग अलग प्रकार के विज्ञापन आते रहते है.

इसे भी जरूर पढे : अपनी ईमेल आईडी को कैसे सिक्योर करे।

अगर यूजर किसी अनजान विज्ञापन पर क्लिक करता है, तो उसे सामने नकली वेबसाइट ओपन हो जाती है. जिसमे लोगों को अपने जाल मे फ़साने के लिए अलग अलग प्रकार के लुभावने मेसेज या फिर इमेज होते है.

कई बार साइबर क्राइम करने वाले फ्रॉड प्रसन किसी कंपनी के कर्मचारियों के पास सीनियर अधिकारी बनकर ईमेल या मेसेज करते है. और उनसे जरूरी काम के नाम पर तुरंत पेमेंट करने के लिए कहते है खाते की जानकारी ईमेल के जरिए ही दी जाती है,
जिसके कारण कुछ कर्मचारी उस घटना को अर्जेंट समझ लेते है और पैसे उनके खाते मे ट्रांसफर कर देते है. जब तक आपको कुछ समझ आता है आपके बेंक खाते से पैसे कट चुके होते है.

फिशिंग की पहचान कैसे करें?

  • अगर आपके पास कोई भी अनजान प्रसन काल या मेसेज करके आपकी पर्सनल डीटैल ,मांगते है.
    अगर आपके पास कोई भी अनजान प्रसन काल करके बोलता है कि अगर आपने यह काम अभी नहीं किया तो आपका नुकसान हो जायेगा या आप पर किसी प्रकार की कारवाई की जायेगी.
    अगर आपके पास कोई इस प्रकार का ईमेल आता है जिसे वेबसाइट का लिंक दिया हुआ हो.
  • अगर आपके पास किसी कंपनी या वित्तीय संस्थान स जुड़ा ईमेल आता है और उसमे वेबसाइट का लिंक भी दिया हुआ है तो वेबसाइट ओपन करके से पहले अपने माउस का कर्सर एक बार उस वेबसाइट पर ले जाए अगर आपको वेबसाइट के नाम से पहले https:// को चेक करे यंहा S का मतलब सुरक्षित वेबसाइट होता है | अगर किसी वेबसाइट मे S नहीं है तो ये साइट सुरक्षित नहीं है आपके साथ फ्रॉड होने की संभावना है
  • आज के समय मे इंटरनेट पर बैंक , वित्तीय कंपनियों , ई कॉमर्स कंपनियों , या फिर किसी भी प्रकार की बड़ी कंपनियों  के नाम से मिलती जुलती जुलती हजारों वेबसाइट इंटरनेट पर मौजूद है जो देखने पर बिल्कुल ओरिजनल साइट लगती है | जिसके कारण लोग जानकारी न होने के कारण उनकी वेबसाइट पर विजिट करते रहते है और अपना डीटेल भी फिल कर देते है.
  • यूजर के पास आने वाले फर्जी मेल डियर नेट बैंकिंग कस्टमर‘ या ‘डियर बैंक कस्टमर‘ से शुरू होते है जबकि ओरिजनल ईमेल डियर मिस्टर साहिल आपने देखा होगा कि कई बार आपके ईमेल बॉक्स मे इस प्रकार के ईमेल होते है जिनमे स्पेलिंग या ग्रामर की काफी गलतिया होती है.

इसे भी जरूर पढे : डिजिटल स्पेस मे सुरक्षित कैसे रहे।

लेख मे आपने क्या सीखा

इस लेख मे हमें आपको Email Fraud के बारे मे विस्तार से समझाया है कि किस प्रकार कोई भी इंटरनेट या मोबाइल यूजर अधूरी जानकारी की वजह से ऑनलाइन फ्रॉडक अ शिकार हो जाता है इस और अपना कीमती पैसा सेकंडों मे गवा देता है इस लेख मे हमने आपको बताया है कि ईमेल फ्रॉड क्या है email fraud kya hai फिशिंग ईमेल फ्रॉड क्या है Phishing Email Fraud Hindi ईमेल फ्रॉड से कैसे बचे email fraud se kaise bache  या फिर इसे यू भी कह सकते है कि ऑनलाइन फ्रॉड से कैसे बचे online fraud se kaise bache.

इसे भी जरूर पढे : सोशल मीडिया हैकिंग से कैसे बचे।

अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे जरूर बताए और इस जानकारी को दूसरे लोगों के साथ भी जरूर शेयर करे ताकि आपके किसी फ्रेंड या रिश्तेदार के साथ किसी प्रकार का ऑनलाइन या बैंकिंग फ्रॉड न हो.

बहुत सारे बैंकिंग फ्रॉड इसलिए होते है क्योंकि अभी तो ज्यादातर लोगों को इसके बारे मे जानकारी ही नहीं और वे लोगों के बहकावे मे आकर अपना खाता खाली करवा लेते है. फिर पुलिस कॉर्टे कचहरी के चक्कर लगाते है लेकिन उसके बाद उन्हे कुछ हासिल नहीं होता है. इसलिए खुद भी सुरक्षित रहे है और दूसरों को भी सुरक्षित करे इसमे ही सभी का फायदा है
धन्यवाद

Techbesmart

अगर आप Tech News , Internet Tips, Mobile Tips, Social Meda Tips, Online Scam Tips, इत्यादि से जुड़ी हुई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट www.techbesmart.com पर विजिट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button