Vehicle Tips

नई कार खरीदने से पहले डीलिंग में जरूर ध्यान रखें ये बातें | New Car Dearling Tips Hindi

New Car Dearling Tips Hindi: पहली बाद कार खरीदना हर किसी का सपना होता हैं। लेकिन शुरुआत में कार खरीदते समय समय कर किसी को नई कार खरीदने की डीलिंग के बारे में जानकारी नहीं होती है। जिसके कारण नई कार खरीदने के बाद कार मालिक को बाद में परेशानी होती हैं।

ऐसे मे अगर आप भी नई कार खरीदने के प्लान बना रहे है। तो लेख को अंत तक पढ़ें। इस लेख मे हम आपको बताने वाले हैं कि नई कार की डीलिंग में इन बातों का रखें ख्याल रखना चाहिए ताकि कार खरीदने के बाद आपको ज्यादा परेशानी न हो। ( New Car Dearling Tips Hindi )

बिना टेस्ट ड्राइव के कार फाइनल न करें

अगर आपने कार शोरूम में जाकर कार खरीदने का पूरा मन बना लिया हैं तो तो कार की डील फाइनल करने से पहले एक दो बार कार का ड्राइविंग टेस्ट जरूर लें।

ड्राइविंग टेस्ट के लिए साथ में किसी ऐसे ड्राइवर को लेकर जाए जिसे ड्राइविंग का अच्छा अनुभव हो। टेस्ट ड्राइव भी उसी प्रकार की लें। जिसे आप खरीदने का प्लान बना रहे हैं।

इसके अलावा यह भी चेक कर लें। कि जो कार के फीचर्स आपको बताए जा रहे है। वो कार मे है भी या नहीं।

कम कीमत पर लें कार की कोट्स

कार की डील फिक्स होने होने के बाद अगर सेल्सपर्सन दोबारा से कार की कीमत बढ़ाने की बात कर रहा हैं। तो ऐसे मे आपको सतर्क होने की जरूरत है।

अगर आपके साथ ऐसा होता हैं तो बेहतर होगा कि आप उस शोरूम से बाहर आ जाये। किसी भी दूसरे व्यक्ति के दबाव मे आकर जबरदस्ती फेसला न लें। जब तक आप संतुष्ट न हो। चाहे तो आप उसके लिए एक दो दिन का समय भी लें सकते हैं।

​खुलकर करें बात

आप जिस भी कार को खरीदने का प्लान बना रहे है। उसके बारे में पहले से रिसर्च कर लें

जैसे कि कार का मॉडल , कार के फीचर्स , कार की कीमत इत्यादि ,ताकि डीलिंग के समय सेल्समैन से खुलकर सही तरीके से बात कर सको। ऐसा करने से सेल्समैन को लगेगा कि आपको कार के बारे में अच्छी समझ हैं।

कार को लेकर आपके मन मे जो भी सवाल हो उसे सेल्समैन से जरूर पूछे। आधी अधूरी जानकारी प्राप्त करके कार खरीदने का मन न बनाए। सेल्समैन के द्वारा बताई गई हर बात पर विश्वास न करें। हर किसी को अपना प्रोडक्ट अच्छा लगता हैं।

इन्हे भी जरूर पढ़ें,

एक्सेसरीज ​जरूरत के मुताबिक लें।

कार खरीदने के बाद सेल्समैन आपको कार से जुड़ी हुई अलग अलग प्रकार की एक्सेसरीज पर खर्च करने की सलाह देते हैं। जैसे कि कोरोजन प्रोटेक्शन, पेंट सीलेंट, फैब्रिक प्रोटेक्शन सेल्समैन आपको बताते हैं कि इस एक्सेसरीज को लगाने से आपको ये फायदा होगा। ऐसे मे आपका लक्ष्य केवल कार खरीदने तक ही सीमित रहना चाहिए। जो एक्सेसरीज आपकी जरूरत की नहीं है।

जिससे आपको कोई फायदा नहीं होने वाला उन एक्सेसरीज को केवल सेल्समैन की बातों में आकर बिल्कुल न खरीदें। सेल्समैन आपको उन्हें खरीदने के लिए अलग अलग तरीके अपनाएगा। लेकिन आपको उस पर ध्यान नहीं देना। उसका मकसद होता है। कि शोरूम के ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्ट सेल करवाना।

सेल्समैन जीतने ज्यादा प्रोडक्ट सेल करवाता है। उसे उतना ही ज्यादा कमीशन मिलता है।

अगर आप इन एक्सेसरीज को खरीदने से बच जाते हैं तो आपकी कार की कीमत काफी कम हो जाती है। बाद मे आप इन एक्सेसरीज को अपनी जरूरत के अनुसार कम बजट में बाहर से भी लगवा सकते है।

क्रेडिट कार्ड से करें पेमेंट

कार की डील फाइनल होने के बाद डाउन पेमेंट क्रेडिट कार्ड से करें। ऐसे में अगर कार डीलर डिलीवरी से पहले बिजनेस बंद कर देता है, तो आप पेमेंट को कार्ड इश्यू करने वाली कंपनी से चैलेंज कर सकते हैं।

लोन ऐप्लिकेशन पर डीलर आपकी इनकम या डाउन पेमेंट के साइज से जुड़ी जानकारी में फ्रॉड कर सकता है। इससे बचने के लिए हो सके तो क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करें।

फाइनैंशल प्रक्रिया ​पूरी कर लें

कार डीलिंग होने के बाद कार को तभी अपना समझा जब उसकी फाइनेंशियल प्रक्रिया

पूरी तरीके से हो जाती है। जब तक कार की फाइनेंशियल प्रक्रिया पूरी नहीं होती हैं। तब तक कार की ड्राइव न करें। कार की डिलीवरी भी तभी लें तब आप उसे पूरी तरह से संतुष्ट हो।

एक बार कार की डिलीवरी होने के बाद आप कार में मालिक बन जाते है। उसके बाद पूरी कर की जिम्मेदारी आपकी होती हैं।

कार की डिलीवरी होने के बाद अगर ये आपके मन को नहीं भाती है तो आप उसे आसानी से बदल नहीं सकते हैं। शोरूम से बाहर आने के बाद इसी कीमत कम हो जाती है। इसके अलावा कार खरीदने के बाद इसके खर्चों का भी ध्यान रखें। जितना आपका बजट है। उसे हिसाब से ही कार को मैनेज करें।

इन्हे भी जरूर पढ़ें,

इंश्योरेंस के बारे में जान लें।

सरकार ने प्रत्येक वाहन के लिए इंश्योरेंस की प्रक्रिया को अनिवार्य कर दिया है। इसलिए कार खरीदने के साथ भी आपको इंश्योरेंस भी लेना होता हैं।

इसलिए जब आप कार खरीदने के लिए जाओ तो पहले ही कार इंश्योरेंस देने वाली कंपनियों के बारे में अच्छे से जान ले। ताकि कार खरीदने के बाद आपको इंश्योरेंस लेने में ज्यादा परेशानी न हो। इसे आपके समय की बचत भी होगी।

निष्कर्ष- New Car Dearling Tips Hindi

इस लेख में हमने आपको नई कार की डीलिंग करने के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। कि अगर आप नई कार खरीद रहे हो । तो आपको नई कार खरीदते समय सेल्समैन के साथ डील करनी है ताकि कार खरीदने के बाद परेशानी न हो। ( New Car Dearling Tips Hindi )

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इस जानकारी को दूसरे लोगों के सभी भी शेयर करें ताकि वे भी स्मार्ट बन सके। इस जानकारी को लेकर अगर आपका किसी प्रकार का सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम आपके सवालों का जवाब देने की जरूर कोशिश करेंगे।

Techbesmart

अगर आप Tech News , Internet Tips, Mobile Tips, Social Meda Tips, Online Scam Tips, इत्यादि से जुड़ी हुई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट www.techbesmart.com पर विजिट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button