Mobile Tips

Mobile ki Lat Kaise Chhudaye : बच्चों की मोबाइल की लत कैसे छुड़ाए

कोविड  ने लोगों के जीवन को पूरी तरीके बदल कर रख दिया, फिर चाहे लोगों के काम करने का तरीका हो या फिर बच्चों की पढ़ाई करने का तरीका यही कारण है अब बच्चे हो या बड़े सभी मोबाइल के आदी बना चुके है।  

एक स्टडी मे पता चला है कि यूजर्स एक दिन मे कम से कम औसतन 90- 160 बार अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते है। जिसके आने वाले समय मे परिणाम देखने को मिलेंगे।  

अगर किसी बच्चे को मोबाइल की लत लग गई है, तो ये और ज्यादा खतरनाक है, जो उसके मस्तिष्क से सोचने की अक्षमता पूरी तरह से खत्म कर देगी।  

ऐसे मे अगर आपके बच्चे या फिर आप खुद बहुत ज्यादा मोबाइल का इस्तेमाल करते है तो यह लेख आपके लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है इसलिए इसे पूरा पढे यह आपके बहुत काम आ सकता है इस लेख मे हम जानेंगे कि मोबाइल की लत को कैसे छुड़ाये। Mobile ki Lat Kaise Chhudaye

बच्चों की मोबाइल की लत कैसे छुड़ाए

हर इंसान की क्षमता होती है, अगर वो उसके दायरे मे रहकर किसी काम को करता है, तो फिर सही है, लेकिन अगर वो अपनी क्षमता को भुलाकर उसके दायरे से बाहर रहकर कार्य करता है। तो फिर उसे नुकसान हो सकता है। 

इसलिए अगर कोई भी यूजर मोबाइल का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करता है ,तो उससे कितने बड़े नुकसान हो सकते है।  इसका पता तुरंत नहीं चलेगा लेकिन जब शरीर मे बीमारिया बढ़ेगी तब इसका असर निकलना शुरू होगा । 

मोबाइल बुरा नहीं है, अगर इसका सही इस्तेमाल किया जाए तो यह आपको अच्छा बिजनस भी दे सकता है । लेकिन अगर इसका खराब इस्तेमाल किया तो यह आपको रोगी बना सकता है।  

ऐसे मे आप अंदाजा लगा सकते है कि जब मोबाइल के बहुत ज्यादा इस्तेमाल करने से इसका असर  बड़े लोगों की सेहत पर होता है।  तो बच्चों की सेहत पर कितना असर होगा जबकि बच्चों का शरीर बड़े लोगों की तुलना मे बेहद कमजोर होता है। 

इसलिए अगर आपके बच्चों को भी मोबाइल कि बहुत ज्यादा लत लग चुकी है, तो सुधारने की कोशिश करे न कि उस आदत को और बिगड़ा जाए। 

इस लेख मे हम आपको मोबाइल की इस लत छुड़ाने के बारे मे ही जानकारी दे है कि अगर आप एक पेरेंट्स हो तो आप अपने बच्चों कि मोबाइल लत को कैसे कम कर सकते है।  

हमेशा स्मार्टफोन को चेक करे 

यूजर्स दिन मे कितने घंटे मोबाइल का इस्तेमाल करता है। इसकी जानकारी पता लगाने के लिए अब स्मार्टफोन मे ट्रेकिंग फीचर आने लगे है।  इस  फीचर की मदद से आप आसानी से पता लगा सकते है, कि आपने दिन मे कितने बार मोबाइल को ऑन किया और कुल कितने घंटे चलाया है।  इसके अलावा आप यह भी देख सकते है। 

 कि आपके बच्चे ने दिन मे किस ऐप को कितने समय इस्तेमाल किया। आप फीचर मे किसी भी ऐप का टाइम सेंट भी कर सकते है। जब भी दिन मे उस ऐप का टाइम पूरा हो जाएगा।  तो ऐप खुद ही बंद हो जायेगी। 

यही नहीं आप इस फीचर मे ऐप कुछ मिनट का समय सेट करके ब्लेक लिस्ट भी कर सकते है, ताकि जब भी कोई बच्चा उस ऐप को खोले वो तभी बंद जाए।  

बच्चे मोबाइल मे सबसे ज्यादा यूट्यूब इंस्टाग्राम , फ़ेसबुक और गेम इस्तेमाल करते है। ऐसे मे आप इन ऐप पर बहुत ही कम समय शेड्यूल कर सकते है, ताकि अगर बच्चा इन्हे खोले तो वो बहुत ही कम समय के लिए इस्तेमाल कर सके। 

इसे भी जरूर पढे : सोशल मीडिया हैकिंग से कैसे बचे।

ट्रेकिंग का यह फीचर आपको मोबाइल की सेटिंग मे मिल जाता है। इस प्रकार आप अपने बच्चों का मोबाइल स्क्रीन टाइम कम कर सकते है।  

प्रोटेक्ट योर टाइम:

अगर आप अपने दोस्तों के साथ बहुत ज्यादा समय बिताते हो तो, ऐसे मे आपको खुद के लिए समय मेनेज करना काफी मुश्किल होता है, इसलिए जरूरी है कि काम से फ्री होने के बाद अपना सारा समय दोस्तों के साथ न बिताकर खुद को भी समय दे। 

इसे भी जरूर पढे : पानी में गिर जाए फोन तो तुरंत करें ये काम

इसलिए आपको कोई काल करके बार बार परेशान न करे तो आप अपने मोबाइल मे डू नोट डिस्टर्ब फीचर का इस्तेमाल करे।  इस फीचर मे आप केवल कुछ चुनिंदा परिवार के मेम्बर और अपने बॉस  को ही ऐड करे। अगर कभी किसी प्रकार की इमरजेंसजी काल हो तो आप रिसीव कर सको। 

जब आप किसी काम मे बहुत व्यस्त हो तो, आप अपने मोबाइल को कुछ घटों के लिए ऑफ भी कर सकते है। इस प्रकार आप अपना स्क्रीन टाइम कर सकते है।  

अन्य चीजों का आनंद लें

अगर आपका या आपके बच्चों का ज़्यादतर समय मोबाइल पर बीतता है।  लेकिन अगर आपको घरों मे खेले जाने वाले छोटे गेम खेलना पसंद है , कैरम, लूडो   या चेस खेलना पसंद है या फिर बेडमिंटन  या पार्क मे घूमना। 

इसके अलावा भी कुछ ऐसे गेम है इन्हे आप घर मे रहकर खेल सकते है, तो आप फ्री समय मे अपने बच्चों के साथ इन गेमों का आनंद ले सकते है, ताकि आपके बच्चों का भी मनोरंजन हो सके और मोबाइल स्क्रीन टाइम भी कम जाए।  इससे आपके बच्चे न तो बोरिंग महसूस करेंगे और न किसी वजह से मोबाइल की टेंशन लेंगे।  

इसे भी जरूर पढे : मोबाइल फोन में स्क्रीन गार्ड का इस्तेमाल होता है खतरनाक,

मोबाइल पर ज्यादा टाइम बिताने से आजकल के बच्चों के शरीर बेहद कमजोर होते जा रहे है। उनसे जरा सा भी हार्ड काम नहीं होता है।  इसलिए आने वाला समय आज की नई जनरेशन के लिए बहुत मुश्किल होने वाला है। 

 जिसके ऊपर न तो बच्चे के माता पिता ध्यान दे रहा है और न ही समाज मे इस पर समस्या पर कोई ध्यान देने वाला है।  ऐसे मे अगर आप एक पेरेंट्स है, तो आपको खुद ही इस बात को समझना होगा कि मोबाइल की लत आपके बच्चे को किस दिशा मे ले जा सकती है। 

 इसका रिजल्ट शायद आपको अभी नहीं देखेगा, लेकिन आने वाले समय मे इसके परिणाम बहुत बुरे होंगे।  तब आपको समझ नहीं आने वाला कि अब क्या करे । इसलिए बेहतर होगा कि बच्चों की फिटनस को मजबूत बनने के लिए थोड़े आउटडोर गेम खेलने की आदत भी डाले।  

फोन के नोटिफिकेशन ब्लॉक करे

अगर कोई इंसान अपने मोबाइल को कई कई घंटों मे इस्तेमाल करता है, तो मोबाइल मे आने वाले नोटिफिकेशन की वजह से वो उसे हर मिनट चेक किया बिना नहीं रह सकता है। चाहे वह कितना भी अर्जेंट काम क्यों न कर रहा हो। 

इसे भी जरूर पढे : स्मार्टफोन की बैटरी तेजी से खर्च करने वाले ऐप

जब भी यूजर के मोबाइल मे किसी भी प्रकार का नोटिफिकेशन आता है, तो यूजर को लगता है, कि पता नहीं किसका मेसेज या ईमेल होगा लेकिन जरूरी नहीं कि हर बार आपका मेसेज महत्वपूर्ण हो। 

हमारे मोबाइल मे आने वाले ज्यादातर मेसेज या ईमेल फालतू के ही होते है ,लेकिन वही हमे सबसे ज्यादा डिस्टर्ब करते है। इसलिए अगर आप चाहते है कि आप बार बार अपने मोबाइल को न खोले और कम से कम इस्तेमाल करे।

 तो आपको अपने मोबाइल मे मौजूद सभी ऐपस के नोटिफिकेशन ऑफ कर दे। इस प्रकार आप नोटिफिकेशन से छुटकारा पा सकते है। 

हिस्ट्री चेक करे 

अगर आप एक पेरेंट्स है। आपका बच्चा बहुत ज्यादा समय मोबाइल पर व्यतीत कर रहा है या वो ऑनलाइन क्लास करता है, तो ऐसे मे आपका फर्ज बनता है कि अपने बच्चे के ऊपर ध्यान देने के लिए कि वो मोबाइल मे कुछ गलत साइट तो नहीं खोल रहा है। 

इसे भी जरूर पढे : फेक न्यूज को कैसे पहचाने ।

इसलिए जरूरी हो जाता है कि एक बार आप उसके मोबाइल की गूगल और यूट्यूब हिस्ट्री को जरूर चेक करे। वहा डेट के साथ देख सकते है, किस समय और किस तारीख को क्या सर्च किया गया है। 

अगर आपको वहा पर कुछ गलत साइट के लिंक मिलते है, तो अब आपके लिए जरूरी हो जाता है, कि आपको अपने बच्चों को मोबाइल देते समय  उस पर कड़ी नजर रखनी होगी।

क्योंकि वे जो भी उसमे गलत साइट खोलते  है, अभी उनहर उनके बारे मे सही जानकारी नहीं होती है,  इसलिए आप उन्हे अपने तरीके से समझाए ताकि वो मोबाइल का सही इस्तेमाल कर सके।  

साइट / ऐपस को ब्लॉक करो 

अगर अपने बच्चों को पढ़ाई करने के लिए मोबाइल दिया हुआ है, तो ऐसे मे आपके लिए जरूरी हो जाता है।  आप शुरुआत मे ही अपने बच्चों का मोबाइल के प्रति ध्यान दे।  इसलिए आप जब भी बच्चों को पढ़ाई के लिए नया मोबाइल लाकर दे या फिर घर का मोबाइल दो।

उस मोबाइल मे हमेशा एडल्ट साइटस को ब्लॉक कर दे और ज्यादा इस्तेमाल होने वाली ऐप को भी ब्लॉक कर दे जैसे कि फ़ेसबुक , इंस्टाग्राम , शेयर चैट एमएक्स टकाटक या शॉर्ट वीडियो का कोई भी प्लेटफ़ॉर्म

इसे भी जरूर पढे : असली नकली मोबाइल की पहचान कैसे करे ।

अगर आपका बच्चा यूट्यूब से से वीडियो देखकर पढ़ाई करता है कि तो ऐसे मे केवल वही चैनल सबस्क्राइब करे जिन पर  पढ़ाई से संबंधित कंटेन्ट अपलोड किया जाता हो। ताकि वे भटकाने चीजों को देखने से बच सके। 

आपको गूगल प्ले स्टोर पर भी लोक लगाना चाहिए क्योंकि आजकल के बच्चे बड़े ही एडवांस चल रहे है वो कही न कही से किसी ऐप का नाम सुनेगा फिर गूगल प्ले स्टोर पर जाकर उसे इंस्टाल कर लेगा। 

इसलिए जरूरी है कि मोबाइल बच्चों को देते है।  इस प्रकार की सभी ऐप और साइट पर लॉक या ब्लॉक कर दे, ताकि वे केवल पढ़ाई के लिए मोबाइल का इस्तेमाल करे उसके बाद उसे रख दे।  

क्योंकि अगर आपके बच्चे को एक बार किसी भी प्रकार के कंटेन्ट को देखने की लत लग जाती है।  तो फिर वो लत आसानी से नहीं छूटने वाली है। 

इसे भी जरूर पढे : ई मेल फ्रॉड क्या है । इससे कैसे बचे।

इसलिए शुरुआत से ही अगर आप अपने बच्चों पर ध्यान दोगे तो आपको बाद मे पछताना नहीं पड़ेगा।  

ट्रेसिंग ऐपस का इस्तेमाल करे 

आज की टेक्नोलॉजी बड़ी एडवांस होती जा रही है। अब दूसरों के मोबाइल मे यह भी ट्रेक कर सकते है कि दिन भर अपने मोबाइल मे क्या करता है। किस प्रकार का कंटेन्ट देखता है, कितने समय पढ़ाई करता है कितने समय गेम खेलता है इत्यादि। . 

अगर आप भी इस फीचर का इस्तेमाल करते है तो पहले आपको अपने और बच्चों के मोबाइल मे मोबाइल ट्रेसिंग ऐप डाउनलोड करना होगा।  इस प्रकार की ऐप बहुत है, जिन्हे आप गूगल प्ले स्टोर से भी डाउनलोड कर सकते है। 

इसे भी जरूर पढे : मोबाइल ओटीपी फ्रॉड क्या है।

अगर आप अच्छे फीचर वाली ऐप का इस्तेमाल करना चाहते है, तो आपको इस ऐप को लेने लिए पैसे भी चुकाने होंगे, लेकिन इसका इस्तेमाल आपको अपने बच्चे पर नजर रखने के लिए जरूर करना चाहिए ताकि बाद मे आपको ज्यादा बड़ी परेशानी न हो।  

निष्कर्ष

इस लेख मे हमने आपको बच्चों की मोबाइल की लत को छुड़ाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बाते शेयर की है जिनके बारे मे सभी को जानना चाहिए खासकर माता पिता को इस लेख मे हमने आपको बताया है कि बच्ची की मोबाइल लत को कैसे छुड़ाए Mobile ki Lat Kaise Chhudaye

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे बताये और इस जानकारी को दूसरे यूजर्स के साथ शेयर करना बिल्कुल न भूले ताकि वे भी इन टिप्स का फायदा ले सके धन्यवाद 

sharukh khan

मेरा नाम शाहरुख खान हैं। में पेशे से ब्लॉगर , कंटेन्ट राइटर और डिजिटल मार्केटर हूँ। मुझे टेक्नोलॉजी क्षेत्र के बारें में अच्छी समझ हैं इसलिए में tech be smart प्लेटफ़ॉर्म के जरिए आसान से आसान भाषा में दूसरे यूजर की समझने की कोशिश करता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button