Cyber Security Tips

Bank Fraud Hone Par Kya Kare : बेंक मे फ्रॉड होने पर क्या करे?

डिजिटल टेक्नोलॉजी और इंटरनेट ने बैंकिंग को बेहद स्मार्ट बना दिया है जिसे हम इंटरनेट बैंकिंग या फिर मोबाइल बैंकिंग के नाम से जानते है यही कारण है कि अब लोग बेंक से जुड़े कार्य को घर बैठे ही आसानी से कर लेते है। 

जिसके कारण उनके काफी समय की बचत होती है इंटरनेट बैंकिंग के शुरू होने से पहले लोगों को बेंक से जुड़े किसी भी प्रकार के कार्यों को करने के लिए घंटों घंटों लाइनों मे खड़ा होना पड़ता था तब जाकर वे बेंक से जुड़े कार्य कर पाते थे।  

बैंकों मे इसी प्रकार की समस्या से बचने के लिए आजकल डिजिटल बैंकिंग या फिर मोबाइल बैंकिंग का बहुत ज्यादा इस्तेमाल होने लगा है । इस  सुविधा के जिनते ज्यादा फायदे है उतने नुकसान भी है आपकी एक छोटी से गलती आपके पूरे बेंक खाते को खाली कर सकती है। 

आए दिन लोगों के साथ ऑनलाइन बेंक फ्रॉड की घटनाए होती रहती है जिसमे लोग अपनी मेहनत कि कमाई कुछ मिनटों मे ही गवा देते है। इसलिए जरूरी है कि आपको डिजिटल बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग इस्तेमाल करते समय कुछ जरूरी बातों के बारे मे जरूर जानना चाहिए। 

ताकि आप इस प्रकार के बेंक संबंधी ऑनलाइन फ्रॉड से बच सको। इस लेख मे हम आपको बेंक से जुड़े ऑनलाइन फ्रॉड के बारे मे कुछ जानकारी देने वाले है अगर आप भी इसके बारे मे जानना चाहते है तो लेख को अंत तक पढे। 

इस लेख मे हम आपको बताने वाले है बैंकिंग फ्रॉड से कैसे बचे Banking Fraud se Kaise Bache बैंकिंग फ्रॉड होने पर क्या करे Bank Fraud Hone Par Kya Kare इत्यादि 

बेंक मे फ्रॉड होने पर क्या करे Bank Fraud Hone Par Kya Kare

बैंकिंग फ्रॉड से बचने के लिए इंडिया का सबसे बड़ा बेंक आरीबीआई भी समय समय पर बैंकों के ग्राहकों को एमएमएस और ईमेल के जरिए सूचित करता रहता है ताकि किसी भी यूजर के साथ फ्रॉड की घटना न घटे लेकिन बहुत से कस्टमर इन सूचनाओ से अनजान रहते है जिसके कारण उन्हे किसी प्रकार की जानकारी नहीं होती है इसलिए वे फ्रॉड का शिकार हो जाते है।  

ऐसे मे अगर किसी कस्टमर के साथ बेंक संबंधी किसी प्रकार का फ्रॉड हो जाता है तो उन्हे नीचे दी गए कुछ बातों के बारे मे जरूर जानना चाहिए 

फ्रॉड होने पर पैसे मिलेंगे

ज्यादातर लोग इस बात को लेकर परेशान रहते है कि अगर उनके खाते से किसी अनजान प्रसन से गलत तरीके से पैसे निकाले है तो उनके बेंक मे शिकायत करने पर बेंक पैसे कहा से देगा , क्या वो अपने पास से देगा या उसकी भरपाई बेंक का मेनेजर करेगा

बैंकों मे इस प्रकार का ऑनलाइन फ्रॉड के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए बैंक अब अपने कस्टमर के खाते की सुरक्षा के लिए साइबर सिक्योरिटी से जुड़ी इंसयोरेंस पॉलिसी लेते है। 

 अगर किसी कस्टमर के साथ इस प्रकार की घटनाए होती है, तो बेंक इन फ्रॉड से जुड़ी जानकारी डायरेक्ट इंसयोरेंस कंपनी को भेजते है इस प्रकार बेंक इंसयोरेंस के पैसों से अपक नुकसान की भरपाई करते है। 

इसे भी जरूर पढे : नेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करे

अगर आप अपने खाते की सुरक्षा के लिए अलग अलग से इंसयोरेंस कवरेज लेना चाहते है, तो मार्केट मे बहुत से कंपनिया इस प्रकार की सुविधा दे रही है जिसका फायदा आप ले सकते है। 

याद रहे इंसयोरेंस कंपनी या बेंक आपके नुकसान की भरपाई तभी करते है। जब आपके खाते के साथ हुए फ्रॉड मे आपकी कोई गलती न हो अगर आपकी गलती पाई जाती है तो आपको नुकसान वसूलना मुश्किल हो सकता है। 

फ्रॉड होने पर जल्द से जल्द शिकायत करे

 अगर कस्टमर के साथ किसी भी परकर का बेंक संबंधी फ्रॉड हो जाता है , तो आपको इसकी सूचना केवल तीन दिनों के अंदर ही अपने बैंक मे करनी होगी आप जितना जल्दी शिकायत करोगे आपकी समस्या का समाधान उतनी ही जल्दी होगा।  

आरबीआई के अनुसार अगर कोई कस्टमर फ्रॉड की घटना होने पर जितनी जल्दी बेंक मे सूचना देगा उसके खाते से निकली गई रकम 10 दिनों के अंदर उसके खाते मे भेज दी जायेगी। 

इसे भी जरूर पढे : क्रेडिट कार्ड से लोन कैसे ले?

लेकिन अगर कोई कस्टमर बेंक खाते मे हुई फ्रॉड की सूचना तीन दिन या उसके बाद करता है। अगर किसी कस्टमर के पैसे 25 हजार से कम है तो उसे मिलना नामुमकिन है, लेकिन अगर 25 हजार से ज्यादा है तो कस्टमर को 25 हजर का नुकसान झेलना होगा। 

कितने पैसे वापस मिलेंगे

अगर किसी कस्टमर के सेविंग बेंक अकाउंट से 10 हजार रुपये का फ्रॉड करके निकाल लिए जाते है तो आपको बेंक से पूरे 10 हजार रुपये वापस नहीं मिलेंगे।

आपको उसकी आधी रकम यानि कि पाँच हजार ही वापस मिलेंगे अगर किसी के खाते से 40 हजार निकल जाते है तो उसे केवल 20 हजार ही वापस मिलेंगे। 

इसे भी जरूर पढे : क्रेडिट स्कोर कैसे सही करे ?

यानि कि आपको आधी रकम का नुकसान तो होगा ही आपको आधी रकम भी इस बात पर निर्भर करेगी कि काही वो पैसे आपकी गलती से तो नहीं कटे। अगर आपकी गलती से ही आपको नुकसान हुआ है तो आपको बेंक से  आधे रुपये मिलना भी नामुमकिन है। 

 क्रेडिट कार्ड के फ्रॉड का नियम

 यदि किसी कस्टमर के करंट खाते या पाँच लाख रुपये से अधिक लिमिट वाले क्रेडिट कार्ड से किसी फ्रॉड के जरिए पैसे निकाले जाते है, तो इस प्रकार के मामलों मे बेंक 25 हजार की लायबिलिटी प्रदान करता है। 

इसे भी जरूर पढे : आपके आधार कार्ड पर कितने सिम है।

 ऐसे मे अगर किसी कस्टमर के खाते से क्रेडिट कार्ड से 1 लाख रुपये ऑनलाइन फ्रॉड के जरिए निकल जाते है, तो बेंक आपको केवल उसकी आधी राशि यानि कि 50 हजार रुपये ही प्रदान करेगा जिसके कारण आपको 50 हजार रुपये का नुकसान होगा। 

आप भी करा सकते हैं इंश्योरेंस

अगर आप चाहते है कि आपको किसी भी प्रकार का बेंक फ्रॉड के जरिए नुकसान न हो तो आप इस प्रकार के फ्रॉड से बचने के लिए साइबर सिक्योरिटी इंसयोरेंस की सुविधा ले सकते है बजाज एलियाज और एचडीएफसी आर्गो जैसी कंपनिया बैंकिंग ग्राहकों को इस प्रकार की सुविधा प्रदान करती है 

इसे भी जरूर पढे : अपनी ईमेल आईडी को कैसे सिक्योर करे।

इस इंसयोरेंस को करवाने के बाद अगर आपके खाते मे से ऑनलाइन फ्रॉड के जरिए पैसे निकाले जाते है तो इंसयोरेंस कंपनिया इसका भुगतान करती है। ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड से जुड़ी घटनाओ को देखते हुए अब कस्टमर इस सुविधा का जमकर लाभ ले रहे है।   

ऑनलाइन फ्रॉड होने के तुरंत बाद आपको ये कदम उठाने चाहिए

  • अगर आपको पता चले कि कोई अनजान प्रसन आपके बेंक अकाउंट संबंधी जानकारी का गलत इस्तेमाल करता है तो आपको सूचना तुरंत अपने बेंक और साइबर सुरक्षा पुलिस मे करनी चाहिए। 
  • अगर आपका डेबिट या क्रडिट कार्ड चोरी हो जाता है या किसी वजह से कही खो जाता है तो ऐसे मे आपको तुरंत बेंक या क्रेडिट कार्ड कंपनी मे काल करके इन्हे ब्लॉक करवा देना चाहिए।  
  • बेंक संबंधी फ्रॉड से बचने के लिए आप अपने खाते मे फ्रॉड अलर्ट सेटअप करवा सकते है ताकि अगर कोई भी फ्रॉड आपके खाते मे सेंध लगाने की कोशिश करेंगे तो आपको इसकी जानकारी तुरंत मिल जायेगी। 
  • आप समय समय पर अपने मोबाइल बैंकिंग प्लेटफ़ॉर्म , डेबिट कार्ड क्रडिट कार्ड पासवर्ड बदलते रहे ताकि कोई भी अनजान अपने खाते मे सेंध लगाने की कोशिश न  करे।  
  • अपने बेंक खाते से जुड़ी निजी जानकारी किसी भी प्रसन के साथ शेयर न करे चाहे वो आपकी जान पहचान वाला ही क्यों न हो।  
  • बेंक संबंधी फ्रॉड होने  पर शिकायत करने के लिए आपको पिछले 6 महीने का बैंकिंग स्टेटमेंट या फ्रॉड से संबंधित एसएमएस या ईमेल की जानकारी भी बेंक मे दे।  

इसे भी जरूर पढे : सोशल मीडिया हैकिंग से कैसे बचे।

निष्कर्ष

इस लेख मे हमने आपको बेंक संबंधी फ्रॉड होने पर उससे होने वाले नुकसान से बचने के बारे मे बताया है ताकि अगर किसी भी बेंक कस्टमर के साथ किसी प्रकार का बेंक फ्रॉड हो जाता है तो वो किस प्रकार से बेंक से अपने पैसे की भरपाई कर सकता है। 

इस लेख मे हमने आपको बताया है कि बैंकिंग फ्रॉड से कैसे बचे Banking Fraud se Kaise Bache बैंकिंग फ्रॉड होने पर क्या करे Bank Fraud Hone Par Kya Kare इत्यादि। अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है। तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे बता सकते है अगर इस जानकारी को लेकर आपका किसी प्रकार का वाल है तो आप कमेन्ट मे पूछ सकते है।

इस जानकारी को अपने ज्यादा से ज्यादा दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। ताकि उनके साथ किसी भी प्रकार का फ्रॉड न हो।ऑनलाइन फ्रॉड के ज्यादातर मामले अधूरी जानकारी की वजह से होते है इसलिए बेहतर होगा कि आप फ्रॉड से बचने के लिए सही जानकारी प्राप्त करे । धन्यवाद 

sharukh khan

मेरा नाम शाहरुख खान हैं। में पेशे से ब्लॉगर , कंटेन्ट राइटर और डिजिटल मार्केटर हूँ। मुझे टेक्नोलॉजी क्षेत्र के बारें में अच्छी समझ हैं इसलिए में tech be smart प्लेटफ़ॉर्म के जरिए आसान से आसान भाषा में दूसरे यूजर की समझने की कोशिश करता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button