Technology

5G क्या है? 5G Network से यूजर को क्या फायदा मिलेगा। 5G Kya Hai

5G Kya Hai : आज से लगभग 20 वर्ष पहले लोगों के पास मोबाइल नहीं हुआ करते थे।

मोबाइल से पहले लैंडलाइन फोन की शुरुआत हुई थी जो केवल अमीर घरों मे हुआ करते थे। फिर धीरे धीरे समय बदल लैंडलाइन की जगह मोबाइल फोन ने ले ली जिससे कॉल करने के लिए अलग से नेटवर्क सिम की जरूरत होती थी।

उस समय 2 जी नेटवर्क हुआ करते थे फिर बदलते समय के अनुसार तकनीक बदली 2 जी के बाद , 3 जी , 4 जी और अब 5 जी नेटवर्क की शुरुआत हो चुकी है। इस लेख मे हम आपको वर्तमान की नई नेटवर्क टेक्नोलॉजी 5 जी कि बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है 5 जी नेटवर्क क्या है ? ( 5g kya hai ) 5g network se kya nuksan hai, 5g technology kya hai

आज का समय डिजिटल का है और टेक्नोलॉजी का क्षेत्र लगातार बढ़ता जा रहा है 5 जी पीछे 2 से 3 वर्षों से काफी चर्चा मे रहा है। दुनिया के कुछ बड़े देशों मे 5 जी सेवा शुरू हो चुकी है जैसे कि चीन, अमेरिका, जापान औ दक्षिण कोरिया इत्यादि , लेकिन भारत मे यह टेक्नोलॉजी जल्द ही शुरू होने वाली है।

इस 5 जी टेक्नोलॉजी के आने के बाद हमारे जीवन मे क्या असर होगा इससे फायदा होगा या नुकसान इन सब के बारे मे जानने के लिए लेख को अंत तक पढ़ें।

इस लेख में इस्तेमाल होने वाले शब्द आपको भारी लग सकते है लेकिन फिर भी हम आपको आसान से आसान भाषा में समझाने की कोशिश करेंगे ताकि आपको इसके बारे में सही और सटीक जानकारी मिल सके।

मोबाइल टेक्नोलॉजी की जनरेशन

  • First Generation (1G) सन 1980s
  • Second Generation (2G) सन 1990s
  • Third Generation (3G) सन 2000s में,
  • Fourth Generation (4G) सन 2010s में,
  • Fifth Generation (5G) की बारी है.

5 जी नेटवर्क क्या है | 5g Network kya hai

5 जी टेक्नोलॉजी मोबाइल नेटवर्क की पाँचवी जनरेशन है। जिसका पूरा नाम है Fifth Generation है। अगर 5 जी टेक्नोलॉजी की बात की जाए तो इसकी गति 4 जी नेटवर्क की तुलना मे 100 गुना ज्यादा है। इसकी स्पीड का अंदाज इस बात से लगा सकते है कि आपकी 1 जीबी की फ़ाइल पलक झपकते से ही डाउनलोड हो जायेगी।

5G टेक्नोलॉजी शुरू होने के बाद दुनिया में दो या दो से अधिक डिवाइस मानव की तरह आपस मे भी बात कर सकेंगी। कुछ एक्सपर्ट्स की मानें तो 5 जी आने के बाद मानव जीवन पुरी तरह से बदल जायेगा।

5G नेटवर्क कैसे करेगा काम?

5 जी तकनीक की गति इतनी अधिक होना का सबसे बड़ा कारण है। मिलीमीटर वेबस जो रेडियो तरंगों की तरह कार्य करती है अलग अलग प्रकार की डिवाइसे इन्ही वेबस से जुड़ी हुई होती है। जिस क्षेत्र में जीतने काम स्मार्ट फोन या इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स होते है। वहाँ पर इन वेबस की गति उतनी ही तेज होती है।

एक ही क्षेत्र में ज्यादा स्मार्टफोन पर यह वेबस की फ्रीक्वेंसी बंट जाती है, जिसके कारण इंटरनेट की गति कम हो जाती है।
वर्तमान में मिलीमीटर वेबस 6 गीगाहर्ट्ज के माध्यम से स्पीड की गति को मैनेज करती है परंतु 5जी तकनीक आने के बाद यह ये मिलीमीटर वेबस 30 से 300 गीगाहर्ट्ज पर रहकर इंटरनेट को गति को उपलब्ध कराएगी।

4G पर नेटवर्क की बात की जाये तो 500 वर्ग किलोमीटर में लगभग 10 लाख डिवाइस एक साथ अच्छी स्पीड के साथ कनेक्ट हो सकते हैं। जबकि 5G नेटवर्क तकनीक के माध्यम से आप केवल एक वर्ग किलोमीटर में ही लगभग 10 लाख डिवाइस एक साथ कनेक्ट कर सकेंगे जिससे उनकी स्पीड और परफ़ोर्मेंस पर किसी प्रकार का कोई फर्क नहीं पड़ेगा

5G टेक्नोलॉजी के पांच आधार

एमएम वेव -:

मिलीमीटर वेव बहुत ज्यादा डेटा की खपत करते है जो 1 जीबी डेटा को कुछ ही सेकंड्स में एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस मे भेजने की क्षमता रखते है वर्तमान में ऐसी टेक्नोलॉजी केवल और केवल अमेरिका में वेरिजॉन और AT&T जैसे टेलीकॉम ऑपरेटर के पास ही है।

स्पीड सेल्स -:

5जी तकनीक का दूसरा आधार स्पीड सेल्स है, जो मिलीमीटर वेव की रेंज की कमी को पूरा करता है। मिलीमीटर वेव रुकावटों के समय काम नहीं करता हैं। इसलिए इन रुकावटों को पूरा करने के लिए बड़ी कॉम्पनीय बड़ी संख्यामे टावर्स लगवाती है, ताकि यूजर्स बिना किसी परेशानी के डिवाइस का इस्तेमाल कर सके।

बिमफॉर्मिंग -:

बिमफॉर्मिंग मोबाइल नेटवर्क टेक्नोलॉजी कि एक ऐसी तकनीक है, जो अपने सभी यूजर्स की मॉनिटरिंग करती है उसे यूजर्स के पल पल की जानकारी होती है। अगर आपके मोबाइल के एक नेटवर्क में किसी प्रकार की कोई परेशानी आ जाती है तो यह तकनीक बिना देर किए दूसरे स्पीड टावर पर स्विच कर देती है।

फुल डुप्लेक्स -:

फुल डुप्लेक्स 5 जी टेक्नोलॉजी का एक ऐसा फीचर है जो एक समान फ्रीक्वेंसी बैंड के साथ – साथ डेटा को ट्रांसलेट ओर रिसीव की सुविधा उपलब्ध कराता है। पुराने जमाने में इस्तेमाल होने वाली लैंडलाइन टेक्नोलॉजी और वेव रेडियो मे इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता था।

मैक्सिमम MIMO -:

इसका पूरा नाम Multiple Input Multiple Output है। यह 5 जी टेक्नोलॉजी का पाँचवा आधार है। इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल ट्रेफिक को मेनेज करके बड़े सेल टावर्स का इस्तेमाल करने मे किया जाता है।

4G नेटवर्क जिससे रेगुलर सेल टावर के माध्यम से नेटवर्क मिलता है। वो 12 एन्टीना से जुड़ा हुआ होता है। जो उस क्षेत्र से संबंधित ट्रैफिक को हैंडल करता है।

वही 5 जी नेटवर्क मे MIMO 100 एंटीना को एक साथ जोड़कर काम करता है जो जरूरत के समय ट्रेफिक बढ़ने पर टावर की अक्षमता को बढ़ता है।

इन्हे भी जरूर पढ़ें।

5G तकनीक से होने वाले बदलाव

कुछ ऐसे बदलाव जो 5 जी तकनीक आने के बाद देखने को मिलेंगे।

  • 5 जी टेक्नोलॉजी आने के बाद इसकी स्पीड 4 जी से कई गुना होगी। अगर 4 जी की स्पीड की बात की जाए तो 4 जी कि स्पीड 1 GBPS तक है। 5 जी आने के बाद यह स्पीड बढ़कर 20 GBPS तक हो जायेगी
  • 5 जी टेक्नोलॉजी आने के बाद रोबोटिक टेक्नोलॉजी हमारे जीवन का हिस्सा बन जायेगी
    3 5 जी टेक्नोलॉजी आने के बाद ड्राइवरलेस कार्ड देखने को मिलेगी जो प्रोग्रामिंग के आधार पर आपको एक स्थान से दूसरे स्थान से तक लेकर जायेगी।
  • 5 जी टेक्नोलॉजी आने के बाद वर्चुअल रियलिटी का इस्तेमाल तेजी से बढ़ेगा यानि एक आप किसी भी स्थान को घर बैठे इस प्रकार देख सकते है। जैसे कि आप उस स्थान मे रियल मे घूमने के लिए गए हुए है। हमारे देश में यह तकनीक अभी नई है जबकि अमेरिका जैसे देशों में यह कई वर्षों से चल रही है।
  • 5 जी टेक्नोलॉजी आने के के बाद मनुष्य के इलाज करने का तरीका पूरी तरह से बदल जायेगा। सर्जन दुनिया के एक कोने में बैठकर मशीनो से मरीज की सर्जरी कर सकेंगे।
  • सर्जरी या किसी भी प्रकार का इलाज करने के लिए रोबोटिक तकनीक का इस्तेमाल किया जायेगा।
  • 5 जी तकनीक का इस्तेमाल कृषि, शिक्षा, परिवहन, यातायात इत्यादि जैसे क्षेत्रों में भी देखने को मिलेगा जो आपके काम को काफी आसान बना देगा।
  • 5G टेक्नोलॉजी शुरू होने से कनेक्ट सोसायटी बनने का रास्ता तेजी से खुलेगा।
  • 5 जी टेक्नोलॉजी के शुरू होने से दो या दो से अधिक डिवाइस भी आपस मे बात कर सकेंगे कमांड देने के बाद ये खुद ब खुद काम करेगी।
  • देश मे 5 जी तकनीक लांच करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर और सॉफ्टवेयर की बड़े स्तर पर जरूरत होने वाली है जिसके कारण आईटी सेक्टर मे नौकरिया तेजी से बढ़ेगी ।

इसे उदाहरण से इस प्रकार समझ सकते है कि आप मुंबई से पुणे गए है , और आप घर का फ्रिज या इनवर्टर बंद करना भूल गए है तो यह काम भी आप 5 जी तकनीक के जरिए कहीं पर भी बैठकर कर सकते ह। आप अपने स्मार्टफोन से एक कमांड के जरिए किसी भी डिवाइस को बंद या चालू कर सकते है।

इन्हे भी जरूर पढ़ें।

5G टेक्नोलॉजी से जुड़े कुछ आँकड़े

डेटा खपत करने के मामले मे अब भी भारतीय लोग ही सबसे आगे है वर्ष 2020 मे किये गए एक सर्वे के अनुसार इंडिया मे वर्तमान समय मे 4 जी इंटरनेट से औसतन प्रति माह 12 जीबी डेटा की खपत होती है जो आने वाले 5 वर्षों मे बढ़कर 25 जीबी तक हो सकती है ।

GSMA (Global System for Mobile Communications-) की एक रिपोर्ट के अनुसार
वर्ष 2025 तक भारत में मोबाइल यूजर की संख्या लगभग 92 करोड़ होने की संभावना है
जिनमे से लगभग 9 करोड़ यूजर 5G कनेक्शन ले सकते है।

एक रिपोर्ट के अनुसार भारत मे इंटरनेट यूजर 5G सर्विस के लिए वर्तमान खर्च से 10 फीसदी अधिक करने को तैयार है। यही कारण है कि देश मे 5 जी लांच होने से पहले ही तकरीबन 5 करोड़ यूजर जुडने के अनुमान है।

5 जी टेक्नोलॉजी से होने वाले फायदे | 5g Network Ke Fayde

  • 5 जी इंटरनेट माध्यम से यूजर फूल एचडी फिल्म को मात्र एक सेंकड़स मे डाउनलोड कर सकेंगे जबकि 4 जी इंटरनेट स्पीड से फूल एचडी फिल्म को डाउनलोड करने मे 10 से 15 मिनट लग जाते है।
  • 4 जी इंटरनेट में कई यूजर का अधिक दबाव होने पर इंटरनेट स्पीड काफी स्लो हो जाती है जबकि 5 जी इंटरनेट आने के बाद यूजर को इंटरनेट स्पीड संबंधी किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होगी।
  • 5 जी इंटरनेट आने के बाद डेटा एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस मे पलक झपकते ही ट्रांसफर हो जायेगा।
  • 5 जी इंटरनेट तकनीक आने के बाद यूजर वायरलेस डिवाइस सेंसर की मदद से एक दूसरे से बात कर सकेंगे।
  • 5G तकनीक से लोग अपने घर को इलेक्ट्रॉनिक्स, सॉफ्टवेयर या सेंसर टेक्नॉलजी से लैस करके वायरलेस नेटवर्क से कनेक्ट कर सकेंगे।
  • 5 जी टेक्नोलॉजी आने के बाद लोग अपने घरों की सिक्योरिटी को वायरलेस नेटवर्क के माध्यम से दूर से कंट्रोल कर सकते है।
  • 5 जी तकनीक के माध्यम से यूजर एचडी क्वालिटी मे विडियो कॉल कर सकेंगे।
  • देश और दुनिया में 5G तकनीक शुरू होने के बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी का तेजी से विस्तार होगा जिसके कारण वर्तमान में आने वाले ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे कि स्मार्ट TV, वाशिंग मशीन, होम स्पीकर और रोबोट्स काफी तेज और ऑटोमेटिक फीचर्स से लैस होंगे।

इन्हे भी जरूर पढ़ें।

5G तकनीक की कुछ कमियां | 5g Network se Kya Nuksan Hai

जिस प्रकार कोई भी मानव पूरी तरह से परफेक्ट नहीं होता है। ठीक उसी प्रकार कोई भी टेक्नोलॉजी पूरी तरह से परफेक्ट नहीं होती है। अगर किसी टेक्नोलॉजी का कुछ फायदा है तो कुछ नुकसान भी होते लेकिन हम केवल उनके फायदे देखते है 5 जी टेक्नोलॉजी की कुछ कमियां नीचे दी गई है।

5 जी टेक्नोलॉजी की स्पीड का सबसे बड़ा कारण मिलीमीटर वेबस का है। ये वेबस यूजर के नेटवर्क में जितना ज्यादा कनेक्ट होगी उतनी ही यूजर के इंटरनेट की स्पीड अधिक होगी लेकिन अगर इन वेबस के बीच मे कोई ऑब्जेक्ट्स आ जाता है तो आपके इंटरनेट की स्पीड स्लो हो सकती है।

खराब मौसम या बारिश होने की वजह से मिलीमीटर वेबस प्रभावित होती रहती है। ऐसे में 5 जी तकनीक की सुविधा देने वाली कंपनियों को अपने अपनी कनेक्टिविटी बेहतर बनाने के लिए नेटवर्क का इंफ्रास्ट्रक्चर अच्छा लगांना होगा, यही नहीं कंपनियों को छोटे क्षेत्रों में भी 5 जी के कई कई ट्रांसमीटर लगाने होंगे तभी वे यूजर को 5जी अच्छी सुविधा दे सकेंगे।

5 जी इंटरनेट लांच होने के बाद इसकी फीस काफी महंगी होगी जो हर यूजर के बजट से बाहर होगी।

अभी हमारे देश में 5 जी सपोर्ट करने वाले डिवाइसेस बहुत है, ऐसे में अगर कोई भी यूजर 5 जी तकनीक का लाभ लेना चाहता है, तो उन्हे पहले अपने पुराने डिवाइस को बेचकर 5 जी सपोर्ट डिवाइस लेना होगा जिसके लिए उन्हे पैसे खर्च करने होंगे।

5जी टेक्नोलॉजी लांच होने के बाद इनके टावर से निकलने वाले रेडिएशन सजीवों के स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदायक होगी। जिसके कारण मनुष्य और जानवर नई नई बीमारियों का शिकार होंगे।

भारत में 5 जी कब लांच होगा।

वर्ष 2020 मे देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कॉम्पनी जियो के मालिक मुकेश अंबानी ने घोषणा की थी की 2021 तक 5 जी लांच कर देंगे लेकिन देश मे बढ़ते हुए कोरोना केस के कारण इसकी टेस्टिंग मे भी देरी से हुई। लेकिन अब देश में रिलायंस जियो 5जी नेटवर्क लांच कर चुकी हैं। यूजर्स भी इसका भरपूर लाभ ले रहे हैं।

भारत मे 5 जी लांच करने वाली कंपनियां

भारत में 5 लांच करने की दौड़ मे मे अभी 4 कंपनिया है।

  • जिओ नेटवर्क
  • एयरटेल
  • विआई
  • महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड MTNL

निष्कर्ष- 5G Kya Hai

इस लेख मे हमने आपको मोबाइल नेटवर्क की नई टेक्नोलॉजी 5G Technology के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। 5 जी नेटवर्क क्या है ? ( 5g kya hai ) 5g network se kya nuksan hai, 5g technology kya hai

उम्मीद करते है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है तो हमे कमेंट करके जरूर बताएं आपका फीडबैक हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है।

और इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकि वे भी टेक्नोलॉजी के प्रति जागरूक हो सके।

हम इस वेबसाइट पर समय समय पर साइबर सेक्योरिटी , और टेक्नोलॉजी से जुड़ी जानकारी शेयर करते रहते है इसलिए इस लेख को पढ़ने के बाद हमारी पूरी वेबसाइट को एक बार ध्यान से देखे क्या पता इस वेबसाइट पर आपसे संबंधित कोई ऐसी जानकारी हो जिसका आपको तलाश हो। अगर आप हमसे किसी दूसरे टॉपिक पर डीटेल मे जानकारी चाहते है तो हमे कमेन्ट करके जरूर बताए। धन्यवाद

Techbesmart

अगर आप Tech News , Internet Tips, Mobile Tips, Social Meda Tips, Online Scam Tips, इत्यादि से जुड़ी हुई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट www.techbesmart.com पर विजिट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button